गांव में जिसने शराब बेची या बनाई तो 50 हजार जुर्माना, पांच साल तक सामाजिक बहिष्कार भी…

[ad_1]

भड़सेना में गुरुवार को पंचायत की बैठक में मौजूद ग्रामीण। - Dainik Bhaskar

भड़सेना में गुरुवार को पंचायत की बैठक में मौजूद ग्रामीण।

Ads
  • श्रीगणेश: राजनांदगांव में अंबागढ़ चौकी की भड़सेना ग्राम समिति ने लिया फैसला

ब्लाक मुख्यालय से 7 किमी. दूर है गांव भड़सेना…। 230 मकानों के इस गांव की आबादी 1300 है। कभी यहां आधी आबादी घरों में कच्ची शराब बनाती थी। कुछ लोग दुकानों से भी शराब लाकर बेचते थे, लेकिन अब इस गांव में पूर्ण शराबबंदी की घोषणा हो गई है। गणेश चतुर्थी से ग्रामीणों ने गांव में पूर्ण शराबबंदी लागू कर दिया है।

इसके बाद अगर कोई शराब बनाते या बेचते पाया गया, तो उस पर 50 हजार का जुर्माना ग्राम समिति लगाएगी। वहीं 5 साल तक उक्त व्यक्ति को गांव की सार्वजनिक गतिविधियों से भी अलग रखा जाएगा। दरअसल गांव में जमकर शराब बन और बिक रही थी, इसका असर यह होने लगा कि गांव के 12 से 15 साल के बच्चे भी शराब के आदि होने लगे थे। गांव के बिगड़ते माहौल को देखते हुए सभी ने एकमत होकर ऐसा फैसला लिया। भड़सेना सरपंच मोहनलाल ध्रुवे ने बताया की गांव की आधी आबादी कच्ची शराब बनाने के धंधे में लग गई थी, जबकि कुछ लोग शराब दुकानों से शराब लाकर बेचने लगे थे। गांव के करीब 90 घरों में शराब बनाने का काम चल रहा था। गांव का माहौल लगातार बिगड़ने जा रहा था।

गांव में वाद विवाद,गाली गलौज व मारपीट आम बात हो गई। मिडिल व हाईस्कूल में पढ़ने वाले बच्चे भी शराब के आदि हो रहे थे। गांव का माहौल बिगड़ता देख सभी की सहमति से ऐसा निर्णय लिया गया। हुड़दंग करने वाले पर जुर्माना, सूचना देने पर 10 हजार रुपए पुरस्कार भड़सेना में अब गणेश चतुर्थी के साथ ही पूर्ण शराब बंदी लागू हो गई है। गांव समिति ने फैसला लिया है कि अगर गांव में कोई शराब पीकर हुड़दंग करता है, तो उस पर भी 5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। वहीं गांव में शराब बनाने और बेचने की प्रमाणिक सूचना देने वालों को 10 हजार रुपए का पुरस्कार भी दिया जाएगा। सरपंच ध्रुव ने बताया कि किसी पर भी कार्रवाई के पहले गांव में बैठक रखी जाएगी, जिसमें पुख्ता प्रमाण के बाद ही संबंधित पर कार्रवाई की जाएगी।

5 घंटे चली बैठक, हर घर के सदस्यों ने दी सहमति
भड़सेना में गुरुवार को पंचायत बुलाई गई। इसमें हर घर के सदस्य शामिल हुए। सुबह 10 से शाम 4 बजे तक पंचायत में रायशुमारी हुई। बैठक में शराब बिक्री और बनाने से बिगड़ रहे गांव के माहौल पर चर्चा हुई। जहां ग्राम पटेल देवेंद्र मुगनकर, ग्राम समिति के प्रमुख झरन सिंह कुंभकार, बसंत कुंजाम, बालकराम नेताम, राधे नेताम, पंचराम कुंजाम, ढाल सिंह कोरेटी, सुरेश कोरेटी, चन्द्रभान, सरपंच मोहन लाल ध्रुवे ने ग्रामीणों की सहमति से गांव में पूर्ण शराबबंदी का फैसला लिया।

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here