पूछा- कैसा चल रहा है तो किसान परिवार ने कहा, गोधन योजना में गोबर बेचकर ही कमा लिए 85 हजार

[ad_1]

राहुल गांधी ने वैष्णोदेवी यात्रा के दौरान मिल गए किसान से सरकार का फीडबैक भी लिया।

Ads

छत्तीसगढ़ सरकार में मचे राजनीतिक खींचतान के बीच गोधन न्याय योजना की एक चर्चा अनोखे तरीके से राहुल गांधी तक पहुंची है। राहुल गांधी आज जम्मू में माता वैष्णोदेवी के दर्शन करने पहुंचे हैं। मंदिर तक की पदयात्रा के दौरान राहुल गांधी को छत्तीसगढ़ का एक किसान परिवार मिल गया। उसने बताया, वहां सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है। उसने तो गोबर बेचकर 85 हजार रुपए कमा लिए।

राहुल गांधी की आज वैष्णो देवी के दर्शन के लिए पदयात्रा के दौरान छत्तीसगढ के एक किसान परिवार के साथ अचानक मुलाकात हुई। राहुल ने किसान और उसके परिवार को पास बिठाकर बातचीत की। उन्हें पानी पिलाया। उन्होंने छत्तीसगढ़ का हालचाल पूछा तो किसान एक सांस में कई बातें गिना गया। किसान ने कहा, सरकार बहुत अच्छा काम करत हे।’ सरकार को सिर्फ ढाई साल ही हुए हैं, लेकिन किसानों, वनवासियों के लिए बहुत काम हुआ है। अब तो जिनके पास खेत-जमीन नही है उनको भी 6 हजार रुपए देंगे। किसान ने राहुल गांधी को बताया, उसने गोधन न्याय योजना में गोबर बेच कर अब तक 85 हजार रुपए की कमाई कर ली है। इन पैसों से एक स्कूटी भी खरीदी है। किसान ने कहा कि गोठान में भी हमारे यहां बहुत अच्छे काम हो रहे हैं।

किसान परिवार को राहुल गांधी ने अपनी बोतल से पानी पिलाया और कुछ देर तक बातचीत करते रहे।

किसान परिवार को राहुल गांधी ने अपनी बोतल से पानी पिलाया और कुछ देर तक बातचीत करते रहे।

काम देखने के लिए CM न्यौता दे आए हैं

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के कामकाज को देखने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहले भी राहुल गांधी को न्यौता दे आए हैं। पिछले महीने राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़ आने का आग्रह किया था। राहुल गांधी ने न्यौता स्वीकार तो कर लिया है, लेकिन उसकी तारीख तय नहीं की है।

अब तक 100 करोड़ का गोबर खरीद चुकी सरकार

जुलाई 2020 से शुरू हुई गोधन न्याय योजना के तहत सरकार दो रुपए प्रति किलोग्राम की दर से मवेशियों का गोबर खरीदती है। अब तक सरकार 100 करोड़ रुपए का गोबर खरीद चुकी है। गोठान समितियों के जरिए खरीदे गए गोबर से कम्पोस्ट सहित विविध उत्पाद बनाए और बेचे जा रहे हैं।

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here