Kajli Teej Festival: छत्तीसगढ़ी तीजा से पहले आज कजली तीज पर छाई झूलों की बहार

रायपुर (ताजा खबर प्रतिनिधि)। Kajli Teej Festival: छत्तीसगढ़ के गांव-गांव में सुहागिनों द्वारा पति की लंबी आयु और परिवार की सुख-समृद्धि के लिए तीजा पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। माता-पिता अपनी विवाहित बेटियों को मान-सम्मान देने के लिए मायके बुलवाते हैं। कुछ ऐसी ही परंपरा का पालन 15 दिन पहले पड़ने वाली कजली तीज पर मध्य भारत एवं उत्तर भारतीय समाज की महिलाएं निभाती हैं। इस साल तीजा पर्व जहां नौ सितंबर को मनाया जाएगा, वहीं 24 अगस्त को कजली तीज की धूम मची। सिंधी समाज और राजस्थानी समाज की महिलाएं कजली तीज पर वैसी ही पूजा परंपरा निभाएंगी, जैसी तीजा पर्व पर छत्तीसगढ़ी महिलाएं निभाती हैं।

धिमोली खाने की परंपरा निभाई

Ads

सत्ती बाजार स्थित अंबा देवी मंदिर के पुजारी पं. पुरुषोत्तम शर्मा के अनुसार छत्तीसगढ़ी संस्कृति में जिस तरह महिलाओं द्वारा तीजा पर्व उल्लास से मनाया जाता है, उसी तरह तीजा के 15 दिन पहले राजस्थानी समाज में भी कजली तीज मनाने की परंपरा है। रक्षाबंधन के पहले ही विवाहित बेटियां मायके पहुंच चुकी हैं। मंगलवार की रात सुहागिनों एवं कुंवारियों ने मिठाई, फल खाकर व्रत रखा।

चंद्रमा को अर्घ देकर व्रत का पारणा

बुधवार को उद्यानों में झूला झूलने की रस्म निभाएंगी। शाम को शिव-पार्वती की पूजा करके रात्रि में चंद्रमा को अर्घ देने के बाद ही व्रत का पारणा करेंगी। यदि चांद दिखाई नहीं देता है तो रात 12 बजे के बाद चंद्रमा के निमित्त जल से अर्घ देकर ही व्रत तोड़ेंगी।

घर-घर बने गेहूं, दाल, घी-शक्कर के सत्तू

तीजड़ी पर्व पर राजस्थानी समाज में गेहूं, दाल, घी, शक्कर से बने सत्तू के लड्डू का भोग अर्पित करके उसे ही प्रसाद स्वरूप ग्रहण करने की परंपरा है। इसके चलते घर-घर में सत्तू रूपी व्यंजन बनाए गए।

कई राज्यों में मचती है धूम

महामाया मंदिर के पुजारी पं. मनोज शुक्ला के अनुसार कजली तीज पर्व की धूम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, राजस्थान समेत अन्य राज्यों में धूमधाम से मनाया जाता है। इसे कजरी तीज, बूढ़ी तीज, सातूड़ी तीज के नाम से भी जाना जाता है।

मेहंदी रचा करेंगी सोलह श्रृंगार

कजली यानी कजरी तीज पर सुहागिनें हाथों में मेहंदी रचाकर सोलह श्रृंगार करेंगी। पर्व की पूर्व संध्या पर मेहंदी पार्लरों में मेहंदी लगावाने के लिए महिलाओं की लाइन लगी रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here