HomeवायरलIndore News: VIDEO इंदौर नगर निगम ने बुजुर्गों को पशुओं की तरह...

Indore News: VIDEO इंदौर नगर निगम ने बुजुर्गों को पशुओं की तरह भरकर शहर के बाहर छोड़ा, निगम उपायुक्त न‍िलंबि‍त

इंदौर, भोपाल। नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। इंटरनेट मीडिया पर शुक्रवार को नगर निगम कर्मियों द्वारा कमजोर बुजुर्गों को एक गाड़ी में भरकर इंदौर-देवास हाईवे पर छोड़ने का वीडियो वायरल होने से हड़कंप मच गया। वीडियो में निगम के कुछ कर्मचारी एक बुजुर्ग कमजोर महिला और एक पुरुष बुजुर्ग को गाड़ी से उतारते और फिर बैठाते हुए दिख रहे हैं। गाड़ी में कुछ और बुजुर्ग व उनका सामान नजर आ रहा है। वीडियो शिप्रा के आसपास का बताया जा रहा है, लेकिन यह साफ नहीं हुआ है कि यह किस दिन का वाकया है।

ताजा खबर : Earthquake Taaja Khabar : 7.7 तीव्रता के भीषण भूकंप से दहला दक्षिण प्रशांत महासागर, सुनामी का अलर्ट जारी

इंदौर में भिक्षुकों से दुर्व्यवहार पर मुख्यमंत्री नाराज, तीन पर कार्रवाई

इंदौर में भिक्षुकों के साथ हुए दुर्व्यवहार पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने जिला प्रशासन को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद नगर निगम के उपायुक्त प्रताप सोलंकी को निलंबित कर दिया गया है। वहीं, नगर निगम के दो कर्मियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि इंदौर में कड़ाके की ठंड को देखते हुए भिक्षुकों को रैन बसेरा में ले जाने के निर्देश दिए गए थे।

इस दौरान उनसे दुर्व्यवहार की घटना सामने आई। इस कार्य की निगरानी की जिम्मेदारी नगर निगम के उपायुक्त प्रताप सोलंकी को दी गई थी। सोलंकी द्वारा कार्य में लापरवाही बरती गई। इस लापरवाही पर उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है और उन्हें इंदौर से बाहर पदस्थ करने के निर्देश दिए गए हैं। उधर, नगर निगम द्वारा स्पष्ट किया गया है कि प्रतिवर्ष की भांति भिक्षुकों को रैन बसेरा ले जाने को कहा गया था। भविष्य में ऐसी घटना न हो, इसके लिए व्यवस्था की जा रही है।

वायरल खबर : Railway Bharti 2021: रेलवे ने कई जोन से निकाली 3,476 पदों पर वैकेंसी, जानिए पूरी प्रक्रिया

नगर निगमकर्मियों के कृत्य पर कांग्रेस हमलावर

इंदौर में बेसहारा लोगों के साथ नगर निगम कर्मचारियों की हरकत पर कांग्रेस हमलावर है। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने इंटरनेट मीडिया पर वायरल घटना का वीडियो शेयर करते हुए लिखा- इंदौर की यह घटना मानवता पर कलंक है। सरकार और प्रशासन को इन बेसहारा लोगों से माफी मांगनी चाहिए। इस मामले में आदेशों का पालन कर रहे छोटे कर्मचारियों पर नहीं, बल्कि आदेश देने वाले उच्च अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

वायरल खबर : Pakistan Cake fight Video: पाकिस्तान में केक खाने के लिए मची भयंकर लूट, विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को भागना पड़ा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी घटना को फोटो के साथ ट्वीट किया कि मोदी सरकार का ट्रेडमार्क-अमानवीय अत्याचार। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने ट्वीट किया कि इंदौर में नगर निगम के कर्मचारियों द्वारा बुजुर्गों के साथ किए अमानवीय व्यवहार ने देशभर में प्रदेश को शर्मसार किया है। इसके दोषियों पर सिर्फ निलंबन की कार्रवाई अपर्याप्त है। दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो, ताकि ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो और कार्रवाई नजीर बन सके।

मौके पर मौजूद किसी व्यक्ति ने यह वीडियो शूट करते हुए बताया कि निगमकर्मी बुजुर्गों को सड़क किनारे फेंकने आए हैं और बुजुर्गों को इंदौर नगर निगम का गाड़ी में भरकर लाया गया है। जब गांव वाले वीडियो बनाने लगे और कर्मियों को फटकारा तो कर्मी उन्हें फिर गाड़ी में बैठाने लगे। ग्रामीणों ने कर्मियों से कहा कि कम से कम बुजुर्गों को इस तरह नहीं फेंकना चाहिए। नगर निगम के कर्मचारियों की संख्या तीन थी, जो यह अमानवीय काम कर रहे थे। जिस गाड़ी से बुजुर्गों को हाईवे पर बेसहारा कर छोड़ने लाया गया था, उसका नंबर एमपीएफ 7622 था और यह निगम के अतिक्रमण निरोधक दस्ते की गाड़ी है।

ताजा खबर : Whatsapp के विकल्‍प के रूप में जल्‍द आने वाला है Sandes, जानिये इस ऐप के बारे में

अधिकारियों से पता करने पर यह कहा गया कि इस मामले की जांच की जा रही है। गौरतलब है कि इसी महीने स्वच्छता सर्वेक्षण होना है ‍और इसके चलते लगातार पांचवीं बार सबसे स्वच्छ शहर का तमगा हासिल करने के लिए इंदौर नगर निगम कोई कसर नहीं छोड़ रहा है।निगमायुक्त ने मामले में दो लोगों की सेवा समाप्त कीठंड के मद्देनजर बुजुर्गों को रैन बसेरा भेजने के दौरान हुई लापरवाही के मामले में वीडियो के वायरल होने के बाद निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल ने मामले की पूरी जानकारी जुटाई।

जानकारी मिलने के बाद रेन बसेरा के मस्टरकर्मी ब्रजेश लश्करी और विश्वास वाजपेयी की तुरंत प्रभाव से सेवा समाप्त कर दी गई है। निगम कमिश्नर ने किया साफ कि मामला संवेदनशील है और इसकी जांच में जहां भी लापरवाही पाई जाएगी, वहां जवाबदार कार्यवाही की जद में आएंगे।

वीडियो बनाने वाले ने पूछा तो बोले कर्मी- सरकार का है आदेश

क्षिप्रा के पास वीडियो बनाने वाले दुकानदार राजेश जोशी ने बताया कि शुक्रवार दोपहर जब उन्होंने निगमकर्मियों को 8-10 बुजुर्गों को उतारते हुए देखा तो उन्होंने कर्मियों से सवाल किया कि यहां क्यों उतार रहे हो। जवाब में कर्मी बोले कि सरकार का आदेश है। ये हमें इंदौर में परेशान कर रहे हैं। फिर वो बुजुर्गों को छोड़कर जाने लगे और दोबारा लौटकर आए। लोगों के विरोध के कारण उन्होंने बुजुर्गों को फिर गाड़ी में बैठाया। बुजुर्गों की हालत बहुत खराब थी और उनमें दो महिलाएं भी थीं।

जो हुआ, वह गलत है

ठंड के मद्देनजर हर साल की तरह लोगों को रैनबसेरों में शिफ्ट किया जा रहा था। मिसहैंडलिंग की जो घटना हुई है, वह गलत है। दो कर्मियों को सेवा से बर्खास्त किया गया है और रैनबसेरों का सुपरविजन करने वाले उपायुक्त को सस्पैंड किया गया है।

– प्रतिभा पाल, निगमायुक्त

स्टार चौराहा के पास रैनबसेरा में रखा गया है बुजुर्गों को

परंपरा यही है कि सड़क या फुटपाथ पर रहने वाले बुजुर्गों को रैनबसेरों में भिजवाया जाता है। किसी से ऐसी उम्मीद नहीं की जा सकती कि कोई ऐसी गलती करे। जब लोगों ने बुजुर्गों को सड़क पर छोड़ने का विरोध किया, तो कर्मियों ने उन्हें स्टार चौराहा स्थित रैनबसेरा में शिफ्ट किया है।

– मनीष सिंह, कलेक्ट

WhatsApp में हमारे साथ जुड़ने के लिए join बटन पर क्लिक करे –

WhatsApp में हमारे साथ जुड़ने के लिए join बटन पर क्लिक करे –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments