Corona Third Wave: 24 घंटों में कोरोना के 43071 नए केस, पीएम मोदी की तस्वीर के साथ फैलाई जा रही यह अफवाह

19
Google search engine

Fact Check: कोरोना महामारी के खिलाफ सफल लड़ाई के बाद अब देश में हालात सामान्य की ओर हैं। हालांकि डेल्टा प्लस वैरिएंट के रूप में तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है। इस बीच, देश में तीसरी लहर को लेकर तरह-तरह की अफवाहें भी उड़ाई जा रही है। ऐसी ही एक अफवाह का पीआईबी ने खंडन किया है। पीआईबी के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हवाले से यह भ्रामक सूचना वायरल की जा रही थी कि देश में कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है और एक बार फिर लॉकडाउन लगाया जा रहा है।

Fact Check में यह दावा पूरी तरह फर्जी पाया गया है। पीआईबी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, एक #फर्जी तस्वीर में पीएम मोदी के हवाले से कोरोना की तीसरी लहर शुरू होने व लॉकडाउन लगाने का दावा किया गया है। पीएम द्वारा ऐसा कोई ऐलान नहीं किया गया है। कृपया ऐसे भ्रामक संदेशों को साझा न करें। कोरोना से बचाव के लिए कोविड उपयुक्त व्यवहार अवश्य अपनाएं।

24 घंटों में और कमजोर पड़ी कोरोना की दूसरी लहर

इस बीच, देश में कोरोना की दूसरी लहर लगातार कमजोर पड़ रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में कोरोना के 43,071 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 3,05,45,433 हो गई है। 955 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 4,02,005 हो गई है। 52,299 नए डिस्चार्ज के बाद कुल डिस्चार्ज की संख्या 2,96,58,078 हुई। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 4,85,350 है। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 63,87,849 वैक्सीन लगाई गईं, जिसके बाद कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 35,12,21,306 हुआ।

नहीं किया नियमों का पालन तो आ जाएगी तीसरी लहर

सरकार के साथ ही डॉक्टर और वैज्ञानिक लगातार चेतावनी जारी कर रहे हैं कि लोग कोरोना नियमों का पालन करें। मास्क लगाने और शारीरिक दूरी के नियमों का पालन नहीं किया गया तो कोरोना की तीसरी लहर की आशंका रहेगी। अब एक वैज्ञानिक, सरकारी पैनल से जुड़े वैज्ञानिक प्रो. मनिंद्र अग्रवाल ने कहा है कि अगर कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया गया तो अक्टूबर-नवंबर के बीच कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर अपने चरम पर पहुंच सकती है। बता दें, इसी पैनल को कोविड -19 मामलों के मॉडलिंग का काम सौंपा गया है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here