HomeCorona UpdateChhattisgarh Corona Update: दफ्तरों में फूटा कोरोना बम, आरडीए भवन में 28,...

Chhattisgarh Corona Update: दफ्तरों में फूटा कोरोना बम, आरडीए भवन में 28, पंजीयन कार्यालय में सात पाजिटिव, कई कार्यालय सील

Chhattisgarh Corona Update: राजधानी के सरकारी दफ्तरों में भी कोरोना बम फूटने लगा है। रायपुर विकास प्राधिकरण यानी आरडीए कालोनी में 28 कोरोना पाजिटिव मरीज मिले हैं। कोरोना मरीज मिलने के बाद आरडीए भवन को सील कर दिया गया है। वहीं मुख्य पंजीयन कार्यालय रायपुर में एक साथ सात कर्मचारी कोरोना पाजिटिव मिले हैं। इसके बाद कार्यालय को भी सील कर दिया गया है। आगामी 48 घंटे तक फिलहाल यह कार्यालय पूरी तरह से बंद रहेगा।

खम्हारडीह थाने में थाना प्रभारी समेत चार पुलिसकर्मी कोरोना पाजिटिव मिले हैं और अन्य कर्मचारियों की रिपोर्ट आनी शेष है। कोतवाली थाने में एक महिला आरक्षक, कबीर नगर थाने के चार पुलिस कर्मी, महिला थाना प्रभारी भी कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। महासमुंद के सराय पाली में पदस्थ आरक्षक अंतर्यामी रौतियां की कोरोना से मौत हो गई। बेमेतरा जिले के बेरला विकासखंड के सागरा स्कूल में पदस्थ प्राचार्य संतोष कुमार चालिसा का निधन हो गया।

इसे भी पढ़े- Chhattisgarh Naxal Attack : ताजा खबर स्पेशल : छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने जारी की बंधक जवान की तस्वीर

55 साल से ऊपर वालों को सीधे करेंगे एडमिट

55 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों की कोरोना पाजिटिव रिपोर्ट आने पर उन्हें अस्पताल में एडमिट किया जाएगा। इन्हें होम आइसोलेशन में नहीं रखा जाएगा, ताकि मौत के आंकड़ों को कम किया जा सके। मंगलवार को रायपुर कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने इसके लिए निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने कलेक्टोरेट परिसर स्थित रेडक्रास के सभाकक्ष में कोविड 19 के नियंत्रण के लिए बनाए गए नोडल अधिकारियों, जोन आयुक्तों, इंसीडेंट कमांडरों और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक ली।

कलेक्टर ने जिले में अब तक बनाए गए सभी कंटेनमेंट जोन की जानकारी ली। उन्होंने जोन आयुक्त और इंसीडेंट कमांडर को वहां विजिट करने और पुलिस विभाग के अधिकारियों को पेट्रोलिंग करने निर्देशित किया। उन्होंने कंटेनमेंट जोन में टेस्टिंग की स्थिति की भी जानकारी ली।

उन्होंने निर्देशित किया कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी एंटीजन किट के साथ नगर निगम की गाड़ियों से कंटेनमेंट जोन में जाएंगे। कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि यदि टेस्टिंग सेंटर में 55 से अधिक आयु वर्ग के लोगों का टेस्ट रिपोर्ट पाजिटिव आए तो उनके लिए एंबुलेंस की व्यवस्था कर उन्हें हॉस्पिटल पहुंचाएं एवं एडमिट करें, जिससे उनका तत्काल प्रभावी इलाज हो सके।

इसे भी पढ़े- Chhattisgarh Tikakaran Update: छत्तीसगढ़ के इस जिले में कोरोना वैक्सीनेशन बंद, जानिए ये बड़ी वजह

मृतकों के भटक रहे स्वजन

कोरोना से संक्रमित मरीज दर-दर भटक रहे हैं। रायपुर के केवल चार एंबुलेंस हैं जिनसे मरीजों को श्मशान घाट ले जाया जा रहा है। कलेक्टर ने एक्टिव सर्विलांस के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाने भी निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन का सर्विलांस सुबह सात से सुबह 10 बजे तक किया जा सकता है।

कलेक्टर ने होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के घर क्रासस्टीकर एवं रिबन शत-प्रतिशत लगाने कहा। उन्होंने ऐसे मरीजों को दवा घर तक पहुंचाने की व्यवस्था करने को भी कहा। कलेक्टर ने कहा कि यदि आइसोलेशन में रहने वाले मरीज बाहर घूमते पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ पुलिस में एफआइआर दर्ज कराएं।

रायपुर में बने 50 कंंटेनमेंट जोन

रायपुर में अब तक 50 कंटेनमेंट जोन बन चुके हैं। मंगलवार को शहर इंद्रप्रस्थ अपार्टमेंट, पियूष कालोनी, वैशाली रेसीडेंसी, फाफाडीह गली को कंटेनमेंट जोन बना दिया गया है।

कोविड जांच केंद्र आयुर्वेद कालेज परिसर में खचाखच भीड़

राजधानी के लगभग सभी जांच केंद्रों में भीड़ बढ़ गई। ऐसे में नईदुनिया की टीम ने पाया कि शहर के आयुर्वेदिक कालेज में लोग केवल जांच के लिए घंटों लाइन पर खड़े रहे। इस जगह पर शारीरिक दूरी का भी पालन नहीं किया जा रहा है। वहीं कालीबाड़ी जांच केंद्र में लोगों को बैठने और खड़े होने तक के लिए पर्याप्त जगह नहीं बची है।

खुलेआम फेक रहे पीपीई किट

आयुर्वेद कालेज परिसर से लगे कोरोना कोविड सेंटर के पास से लगे कोरोना अस्पताल में गेट के सामने इस्तेमाल कीसरकारी अव्यवस्था का आलम यह है कि खुलेआम ही लोग कोरोना सुरक्षा के लिए इस्तेमाल की जाने वाली पीपीई किट को ख्ाुलेआम फेंक रहे हैं। यहां कई दिनों से इस बायो मेडिकल वेस्ट और कचरा को उठाया नहीं गया है।

इसे भी पढ़े- Lockdown Update – अंतरराज्यीय बस सेवा बंद, कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण लिया गया बड़ा फैसला, आदेश जारी

दूसरे जिले या राज्यों से आने लगे लोग

इधर, रायपुर के बार्डर दुर्ग जिले के कुम्हारी और महादेवघाट रोड पर पुलिस आने-जाने वाले लोगों को रोक रही है और उनसे पूछा जा रहा है कि वे कहां से आ रहे हैं। बता दें कि लाकडाउन लगने के बाद अब दुर्ग के लोग रायपुर की ओर से बाहर जा रहे हैं। अभी तक यहां से लोगों का आना-जाना बंद नहीं किया गया है।

आंबेडकर और एम्स अस्पताल: वेटिंग में वेंटिलेटर

सुविधा कुल बेड खाली बेड

आइसीयू 106 00

एचडीयू 60 00

जनरल वार्ड 300 50

एम्स अस्पताल

आइसीयू-एचडीयू 40 00

जनरल बेड 500 100

(एम्स में खाली बेेड एम्स प्रबंधन अपने स्वास्थ्य कर्मियों के लिए रखता है। )

गंभीर मरीजों के लिए वेंटिलेटर जरूरी

बता दें कि कोरोना के गंभीर मरीजों को कृत्रिम सांस देने के लिए आइसीयू वेंटिलेटर रहना जरूरी है। बेड खाली नहीं होने से कोरोना का स्वरूप और भी गंभीर होता जा रहा है। हालांकि राज्य सरकार की ओर से अस्पतालों के बेड फुल होने के कारण ग्रामीण इलाकों तक कोविड केयर सेंटर बनाए हैं।

इधर कोरोना की जांच के लिए बढ़ी भीड़

कोरोना संक्रमण की जांच के साथ-साथ टीकाकरण केंद्रों पर लोग उमड़ रहे हैं। अभी कोरोना के कांटेक्ट ट्रेसिंग पर व्यापकता से जोर दिया जा रहा है। रायपुर जिले के विभिन्न् शासकीय और निजी चिकित्सालयों में एंटीजन और आरटीपीसीआर के माध्यम से कोरोना की लगातार जांच की जा रही है। एक दिन पहले रायपुर में ही अकेले 7,333 नागरिकों का कोरोना टेस्ट किया गया, जो 4200 कोरोना लक्ष्य का 175 प्रतिशत रहा है।

इसे भी पढ़े- Coronavirus Second Wave: कोरोना संक्रमण में रिकॉर्ड बढ़ोतरी, बीते 24 घंटे में 1.15 लाख संक्रमित

इन जगहों में लगी रही भीड़

मंगलवार को भी शहर के डीटीसी कालीबाड़ी, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, निजी चिकित्सालयों, आयुर्वेदिक टेस्टिंग सेंटर, एम्स , जिला चिकित्सालय पंडरी, ई-रिक्शा के जरिए जांच, बिरगांव प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, विकासखंडवार आंरग, अभनपुर, धरसीवां और तिल्दा में विभिन्न् जगहों में कोरोना की जांच हो रही है।

वर्जन

‘एम्स में फिलहाल आइसीयू और एचडीयू के बेड भर गए हैं। बाकी जनरल वार्ड में भी लगभग जगह नहीं है। यहां केवल एम्स के स्वास्थ्य कर्मियों के लिए कुछ बेड सुरक्षित रखा जाता है।

Chhattisgarh Corona Update

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments